बच्चे की भाषा और अध्यापक

 

‘बच्चे की भाषा और अध्यापक’ किताब से जुड़े सवाल हम से पूछिए या लिखिए अपनी राय, नीचे Comments में|

 

 

Leave a Reply

Notify of
swadesh

chatisgood

R Uma shri

good

Santosh Kumar

very good

Shweta tiwari

good

Ravinder Negi Duni

सरिता मैम आपने सुनाया यही बहुत है T

Santosh kumar

उत्तम विचार

leela Devi

very nice

Aruna diwan

nice

Sitaram mochi

बहुत अच्छा।

Radheshyam chouhan

इस तरह के किताब हर स्कूल में होना चाहिए ताकि बच्चों और शिक्षकों के लिए उपयोगी हों।

Anjali

Very nice idea

leela Devi

Please provide this book for all

Kiran

इस किताब को कैसे मंगवाए।

Chandeep

Loved listening each n every word said by Ms Sarita in this podcast. Am sure the line Kitabein aapse kuch kehna chahati hain, aspke paas rehna chahati hain is going to develop love for reading in our students.

Rajendra Jatav

Ye book private school lesson me hone se teacher or student me badlav jatur aayega

manorma

Nice thinking about this books

rajo devi

student understand the english lesson in well but they unable to answer the question in english language.what should we do?

Sonika

Sach me ye book har school me honi chahie taaki savi iska laabh utha saken.

Naresh kumar

What is the best language for elementary learner?

ANIL kumar

Bahut achha Adyaya hai

Bhagwat prasad jaisawal

Very nice thinking about language

CHAUHAN Ji

Kindly share the link to download this book…..plz

hemant Kumar kanwar

बच्चे जो भी भाषा का उपयोग करे चाहे वो अटक 2 कर बोले उसके साथ उसकी भाषा में तालमेल कर शिक्षक उसके साथ में बातचीत करे तो बच्चे को अच्छा लगेगा

raghuvansh mishra

Language is the base of learnings.As a teacher we should provide more opportunities to express emotions in various way.
Good Lesson.

Dhaniram jagat

Bahut badiya .kitab hi sansar ki vikas ka aadhar hai.

बेला यादव

बहुत रोचक ,
बच्चों की भाषा और बच्चों को भाषा पढाने के विषय में बहुत सारी भ्रांतियाँ हैं जिससे हमे निजात किताबें दिलाती है । मैंने कुछ समय पहले प्रेमपाल शर्मा की शिक्षा और प्रशासन पढा जिससे मुझे भाषा पर बहुत कुछ सहायता मिली इसके साथ ही प्रोफेसर कृष्ण कुमार का एक लेख भी पढा जो भाषा की बारीकियों की दुनिया के द्वार खोलते हैं ।
यकीनन किताबें हमारी मनोवृति को बनाने अथवा दर्शाने का सशक्त माध्यम है ।

wpDiscuz
26 Comments
29