शिक्षण जन-जन तक पहुंचे

रायगढ़, छत्तीसगढ़|

सुशील जी का नारा है – बालिकाओं को बढ़ाना है| आंगनवाडी से लेकर विद्यालय तक बालिकाओं के शिक्षण की ज़िम्मेदारी सुशील जी ने अपने कन्धों पर ली है| आधूनिक तरीकों से ग्रामीण क्षेत्र के बच्चे कई बार अनभिज्ञ रह जाते हैं और कभी-कभी तो शिक्षा के लिए बुनियादी सुविधाएँ भी उपलब्द नहीं हो पाती| बच्चों की कठिनाइयों को कम करने की सोच लेकर सुशील जी विद्यालय में प्रदान की गई राशी उनकी कॉपी, किताब व स्कूल यूनिफार्म के लिए इस्तेमाल करते हैं|

शिक्षा की गुणवत्ता में वृद्धि करन हेतु वे अपने विद्यालय में डिजिटल क्लास, और कक्षा में शून्यनिवेश नवाचारी गतिविधियों का प्रयोग भी करते है| शिक्षण के विकास तथा प्रसार के लिए सुशील जी ने कई समितियाँ भी निर्मित की हैं| ‘माता उन्मुखीकरण समिति’ से जुड़कर महिलाएँ अपने अतिरिक्त समय में आस-पास के क्षेत्रों में जाकर और महिलायों को शिक्षा के फायदों की जानकारी देती है व उन्हें लड़कीयों के शिक्षण के लिए सरकारी योजनाओं से अवगत कराती हैं|


‘युवा शिक्षण समिति’ के अंतर्गत एक छोटे इलाके में उच्चतर कक्षा के बच्चें संध्या समय में प्रतिदिन एक घंटा प्राथमिक कक्षा के कुछ बच्चों को पढ़ाते हैं| बच्चों को स्वास्थ्य के बारे में भी जागरूक किया जाता है, जैसे बच्चों से अपने घरों में शौचालय के निर्माण हेतु पत्र लिखकर अपने घरवालों को स्वच्छता से रहने के लिए प्रेरित करना, जिससे बच्चों ने विद्यालय से अपने घरों में पोस्ट किया था| आज विद्यालय में क्षेत्र के सारे बच्चें नियमित आते है और 95% घरों में शौचालय बनवाए गए हैं| बालिका शिक्षण को बढ़ावा देने में कामयाबी के लिए ज़िला अधिकारी जी के द्वारा सुशील जी को रु.1 लाख राशि से पुरुस्कृत किया गया है|

यह कहानी श्री सुशील गुप्ता के जीवन पर आधारित है जो, रायगढ़, छत्तीसगढ़ से हैं|
कहानी ईशा राखरा के द्वारा लिखी गयी है|  
हम छत्तीसगढ़ सरकार के आभारी हैं कि उन्होंने हमें  Humans of Indian Schools से परिचित किया|

Leave a Reply

Notify of
Aruna diwan

very nice

Arjun varma

congratulations sir

सुशील कुमार गुप्ता

आप सभों को हौसला अफजाई के लिये शुक्रिया….

samiksha tripathi

बालिका शिक्षा पर बहुत अच्छी पहल नमन है ऐसे शिक्षक को

samiksha tripathi

बालिका शिक्षा की बहुत ही अच्छी पहल नमन है ऐसे शिक्षक को

raghuvansh mishra

very good

wpDiscuz
6 Comments