हमारा बाग़ और बागवानी समिति

दुर्ग, छतीसगढ़|

मुझे बचपन से ही प्रकृति से बहुत लगाव है। कितनी सुन्दर लगती है हरियाली। पेड़-पौधों से ताज़े फल और सब्जियाँ तोड़कर खाने की तो बात ही निराली है।अफ़सोस की बात है, जब मैंने इस स्कूल में आना शुरु किया तो बच्चों में पर्यावरण के प्रति बिलकुल रुचि नहीं थी।

यहाँ बहुत ही कम पेड़-पौधे थे और जो थे भी उनकी कोई देखभाल नहीं करता था। मैंने कुछ नए पौधे लगाने की कोशिश की, तो उन्हें भी बच्चों ने उखाड़ फेंका। तब मुझे असली समस्या अपनी आँखों के सामने साफ़ दिखने लगी- बच्चों को पर्यावरण का महत्व समझाना ज़रूरी था। तब मैंने स्कूल में एक बागवानी समिति बनाने का सोचा जिसका मुख्य उद्देश्य बाग़ की देखभाल करना था। मैंने बच्चों को इससे समिति के बारे में सूचित किया और उससे जुड़ने के लिए प्रेरित किया। जब हमारी 6-7 बच्चों की समिति तैयार हुई तो हमने अपने घरों से ही कुछ उपकरणों का इंतज़ाम कर लिया, जैसे: खुरपी, कुल्हाड़ी, अदि। उसके बाद से हर रोज़ हमारी समिति प्रार्थना सभा के बाद 15-20 मिनट्स बाघ में पेड़-पौधों की देख-रेख करने में गुज़ारने लगी।

हमारी इस समिति की मेहनत का नतीजा है की आज हमारे स्कूल के पास एक बहुत ही हरा-भरा बाग़ है। आपको हमारे बाग़ में भिन्न-भिन्न प्रकार के फूल तो 12 महीनों मिलेंगे ही और मौसमी फल और सब्ज़ियाँ भी भरपूर मिलेंगी। अब हमारे विद्यालय का बाग़ उसकी सुंदरता के लिए पूरे गाँव में मशहूर है।

यह कहानी श्रीमती उषा सव के जीवन पर आधारित है जो, दुर्ग, छत्तीसगढ़ से हैं|
कहानी हर्षिता सैनी के द्वारा लिखी गयी है|  
हम छत्तीसगढ़ सरकार के आभारी हैं कि उन्होंने हमें  Humans of Indian Schools से परिचित किया|

Leave a Reply

Notify of
karamsingh

nice

Nice

A.S.Chauhan

it’s good.

Vijay Kumar

very nice

Janak Raj

Very nice

lalman prasad yadav

bahut achchha karya hai

ANIL KUMAR SAHU

अनुकरणीय

Amoliram Jamdare

bahut hi prerak kary hai aapka..

Leela Bati Sharma

Yery nice

Poonam Lata Rana

very nice

Janak Raj

Very Nice Madam

Rakesh Kumar Sharma

trees are our best friend

mohan singh rawat

Great Effort.

Budhwanti

great effort

Lekh Ram Himral

Good efforts towards the environment

Smt. Jagriti Markande

बहुत ही सराहनीय व अच्छा कार्य, साव मैडम जी

usha sao

मेरे पर्यावरण को बचाने की मुहिम की सराहना के लिए द टीचर एप की टीम को कोटि कोटि धन्यवाद । उषा साव, शिक्षक एल बी. शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला भनसुली के, विकास खण्ड पाटन, जिला दुर्ग, छ ग ।

usha sao

मेरे इस कार्य की सराहना के लिए द टीचर एप की टीम को कोटि कोटि धन्यवाद ।

raghuvansh mishra

very nice Madam

Mrs Pragya Singh

बहुत बहुत बधाई साव मैडम 💐💐🙏🙏आपका कार्य बहुत ही अच्छा है 🙏🙏

sarojini champia

JDF HGTV EF of of get Hagen was dtff

sarojini champia

day he he end run we of of is entice care

wpDiscuz
22 Comments
13