बच्चों के पालक भी हैं स्कूल का हिस्सा

महासमुंद, छत्तीसगढ़|

बच्चों का रुझान और शिक्षकों का समर्थन सीखने के लिए बहुत ज़रूरी है। मगर हमे ये नहीं भूलना चाहिए की बच्चे का परिवेश और पालकों की सहभागिता भी सीखने में उतना ही महत्व रखती है।

जब मैंने पढ़ना शुरू किया तो मुझे पता लगा की विभागी तौर पर शिक्षकों को आदेश है की वे बच्चों के पालकों से साप्ताहिक रूप से मिलें और बच्चों के विकास के बारे में चर्चा करें। मगर जैसे समय बीता तो मैंने पाया की इस पहल के बावजूद भी पालक बच्चों की पढ़ाई में कोई रुचि  नहीं दिखा रहे हैं। वे अपने बच्चों को अन्य गतिविधियों में लिप्त रखते हैं।

तब मैंने सोचा की क्यों न पालकों की स्कूल में एक सक्रिय भूमिका रखी जाये और उन्हें स्कूली गतिविधियों का हिस्सा बनाया जाये। इसी सोच के साथ मैंने पालकों से रोज़ मिलना शुरु कर दिया। मैंने उनको स्कूल की गतिविधियों जैसे: पि.टी.एम्, वृक्षारोपण, अदि में शामिल होने को प्रेरित किया। मुझे लगता है की बच्चों को पढ़ाई के प्रति प्रोत्साहित करने के लिए पहले पालकों का स्कूल पर भरोसा होना ज़रूरी है।

धीरे-धीरे मेरे संगी शिक्षकों ने भी मेरा साथ देना शुरू किया और पालकों से मेल-जोल बढ़ा दिया।अब ज़्यादातर बच्चों के माता-पिता व पालक स्कूल से जुड़े हुए हैं। अब तो वो इतने प्रभावित हैं की स्कूली घंटे ख़तम हो जाने के बाद भी वो स्कूल की निगरानी करते हैं।अब वे अपने बच्चों से रोज़ उनकी पढ़ाई व दिक्कतों के बारे में चर्चा करते हैं और हमारे साथ मिलकर उन दिक्कतों के सुझाव ढूंढते हैं। इससे न केवल स्कूल में पढाई का स्थर सुधरा है बल्कि बच्चों की हाज़री भी पहले से काफी बेहतर हुई है। हाल ही में मेरी पदवृद्धि होने के कारण मुझे स्कूल छोड़ना पड़ा। मगर मुझे ख़ुशी है की स्कूल की परिस्थिति सुधरने में मैं कुछ योगदान दे पाया।

यह कहानी श्री यशवंत कुमार चौधरी के जीवन पर आधारित है जो, महासमुंद, छत्तीसगढ़ से हैं|
कहानी हर्षिता सैनी के द्वारा लिखी गयी है|  
हम छत्तीसगढ़ सरकार के आभारी हैं कि उन्होंने हमें  Humans of Indian Schools से परिचित किया|

Leave a Reply

Notify of
Virendra Kumar Choudhary

पालक बालक शिक्षक मिलकर ही बच्चो के भविष्य को अच्छे से सुधार सकते है

vijaylaxmi Thakur

good

कमलकिशोर ताम्रकार

पालक बालक और शिक्षक मिलकर ही भावीपिढी की दिशा व दशा सुधार कर सकते हैं.
साधुवाद

Khushali devi

good

geeta sharma

good

Gulab chandra sahu

I’m so happy for you

Santosh Kumar

good

Dwarika Sahu

good

NarenderPal

NiceJob

sandhya sahu

मैं भी अपने स्कूल में माताओं को हमेशा बुलाती हूं ।सभी कार्यक्रमों का हिस्सा बनाती हूं

sandhya sahu

आगे और अच्छा प्रयास करूंगी

Urmila dhruw

Good

Rameshwar Prasad Sendre

nice

Aruna diwan

efgective

RAMESH KUMAR RATHORE

interested

maryjh

0 Lo>MBA

prem kishan sahu

hood job

Aaditya sharma

nice

Rita saha

good work

Maheshwari pandit

Ek achhi soch and prayash
hi

Santosh kumar

Good work

swadesh

very effective

Purna chandra mandal

बहुत अच्छा

Arjun varma

bahot badhiya

ASHOK KUMAR SAHU

good

s m t yogeshwari dhruw

great job

Ramcharit Singh Solanki

great job sir🤗🤗🤗💖

Anita sori

very good

Sandeep Kumar banjare

very good

wpDiscuz
81 Comments
53